धुँधला | #NaPoWriMo | Day 14

धुँधला धुँधला सा कुछ दीखता था  
अंग्रेज़ी बोली का लेखा टी. वी. पर
सड़क के किनारे खड़े बैनर की ओर
देखकर भी होता था यही असर
न जाने आस पास के नज़ारे क्यों
मेरे नैनों से रहते थे रुस्वा, खफा
जब आखिर जाकर मिली डॉक्टर से

तो उन्होंने कहाँ “तुझे चश्मा है लगा!”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s